कंटेंट राइटिंग क्या है और एक राइटर कैसे बने?

Posted on

आज हम आपको बताने वाले है की कंटेंट राइटर कैसे बने और इससे महीने में ४० से ५० कैसे कमाए.

अगर आपको लिखने का शौक या इंटरेस्ट है तो आप इस फील्ड में आसानी से जा सकते हैं.इंटरनेट ने लोगों के लिखने का तरीका ही बदल दिया है. जहाँ पहले विषय पर किताबें लिखी जाती थी. वही अब इंटरनेट के माध्यम से शेयर किया जाता है.आज हम आपको सभी चीज़ बताएँगे की कंटेंट राइटर कैसे बनते हैं और कंटेंट राइटिंग करके कैसे पैसे कमाए. तो इस पोस्ट को लास्ट तक ज़रूर पढ़ें.

कंटेंट राइटिंग क्या है?

ऐसा लेख जिसमे कंटेंट के बारे में बताया गया हो उसे हम कंटेंट राइटिंग कहते हैं. इसमें लेख स्टोरी या रिव्यु भी लिखे जा सकते हैं.कंटेंट राइटिंग का मतलब सिर्फ लेख लिखना ही नहीं होता बल्कि वह कितना महत्वपूर्ण व उपयोगी है और उसमे बताई गयी जानकारी सही है या नहीं यह सबसे ज़रूरी होता है.कंटेंट राइटर अपने कीवर्ड्स का इस्तेमाल करके अपने कंटेंट को बेहतरीन बनता है. किसी ख़ास कीवर्ड के द्वारा वह कंटेंट सर्च किया जाता है.

अगर आप एक अच्छे कंटेंट राइटर बनना चाहते हैं तो कंटेंट राइटिंग की जॉब्स भी कर सकते हैं. आज के समय में कंटेंट राइटिंग जॉब्स भी की जा रही है. बहुत से कंटेंट राइटर घर बैठे ही अच्छे पैसे कमा रहे हैं और अब तो ऐसी बहुत सी कंपनी हैं जो कंटेंट राइटर की हायरिंग कर रही हैं. तो कंटेंट राइटिंग करने के बहुत विकल्प हैं.

कंटेंट राइटर कैसे बने?

कंटेंट राइटर बनना इतना आसान नहीं होता है. इसके लिए आपके पास ख़ास योग्यता भी होना ज़रूरी है. तो आयी ये आपको उन योग्यताओं से अवगत करते हैं.भाषा के ज्ञान के साथ आप को कंप्यूटर की भी जानकारी होनी चाहिए. आप चाहे तो कंटेंट राइटिंग कोर्स भी कर सकते हैं. बहुत सी कंपनी में इंटर्न्स के लिए भी रखा जाता है. तो आप कुछ समय के लिए कंटेंट राइटिंग इंटर्न्स भी कर सकते हैं.या आपको इन् सब चीजों में नहीं पड़ना वास आपको लिखने में इंटरेस्ट है और आप लिखना चाहते है तो आप खुद से लिख सकते है.. बिना किसी कोर्स के.. और जो भी आपका इंटरेस्ट है वो आप अपना ब्लॉग बना कर सकते है कर सकते है या गुज़रे ब्लोग्स पर गेस्ट पोस्ट कर सकते है.पोस्ट लिख कर पैसे कैसे कमा सकते है उसके वेयर में हिन्दीमेहेलप पर पहले से आर्टिकल लिखा हुआ है आप उसको रीड कर सकते है.

कंटेंट राइटिंग बेसिक रिक्वायरमेंट

  • लिखने की आदत: अगर आपको लिखने की आदत है और आपको ये काम ाचा लगता है तो आप बढ़िया से लिख पाएंगे.
  • पढ़ने की आदत: कंटेंट राइटिंग करने के लिए रीड करना भी जरुरी है ताकि जो दूसरे राइटर लिख रहे है उनसे भी हम नया सिख कर अपनी राइटिंग में इम्प्लीमेंट करे.
  • सब्दो की सही समाज: कंटेंट राइटिंग करने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है सब्दो की सही समाज.. क्यों की अगर हम सही वर्ड्स का ही चुनाव नहीं करेंगे तो हो सकता है जो हम लिख कर समझाना कह रहे वो सामने वाले को समाज ही ना आये और हमारा लिखना व्यर्थ चला जाये.
  • लिखने का सही तरीका: लिखने का सही तरीका भी होना बहुत जरुरी है नहीं तो कोई भी पर्सन हो वो बोरिंग चीज या जो उसको समाज नहीं आ रहा पड़ना पसंद नहीं करता.
  • भाषा की सही समाज: आप हिंदी में लिख रहे हो या इंग्लिश में या किसी और भाषा में.. आपको उस भाषा की सही समाज होना जरुरी है जब ही आप उसमे तीख से लिख पाएंगे.

कंटेंट राइटिंग कैसे करे?

कंटेंट राइटिंग ऐसी हो के जिस विषय में आपने लिखा है. उसके पाठक उसकी संपूर्ण आवश्यक जानकारी मिलनी चाहिए और पाठक आपके आने वाले लेख को पढ़ने के लिए उत्साहित रहे.ये कुछ मैं पॉइंट है जो आप को ध्यान रखना है कंटेंट राइटिंग करते टाइम:

  1. अपने रीडर को पहचाने: कुछ भी लिखने से पहले आपको ये समझना बहुत जरुरी है की आप जो भी लिख रहे है उसको रीड कोण लोग करने वाले है.. और वो किस तरह से रीड करना पसंद करेंगे.. अपने यूजर को कैसे समझे वो आप यहाँ देख सकते है.
  2. अपने रीडर्स से पर्सनल टच रखें: जो भी आप लिख रहे है उसको इस तरह लिखे जैसे आप जो सामने वाला रीड कर रहा है आप उनसे सामने बैठ कर बात कर रहे है.
  3. पटिएनटलय रिसर्च करें: जिस भी टॉपिक पर आप लिख रहे है उसको लिखना स्टार्ट करने से पहले उस टॉपिक के वेयर में अचे से सर्च करे.. आपको उस टॉपिक की पूरी जानकारी होगी जब ही आप अचे से लिख पाएंगे.
  4. रिलेवेंट और वाइब्रेंट सब्जेक्ट्स पे लिखे: अगर आपका ब्लॉग है वो आप जो भी पोस्ट डालते है सभी पोस्ट को एक दूसरे से थोड़ा मैच हो ऐसी लिखे.. अगर आप पोस्ट को ऐसे पब्लिश करेंगे जिनका एक दूसरे से लेना देना नहीं होगा तो यूजर को थोड़ी परेशानी होगी.
  5. कंटेंट में ओरिजिनालिटी रखें: जो भी आप लिखते है उसमे एक नया और ुनिक पैन रखे.. क्यों की कोई भी अगर आपकी पोस्ट रीड करने आ रहा है सिर्फ जब करेगा जब उसको कुछ अछि और ओरिजिनल जानकारी मिले. किसी के कॉपी करने से क्या नुकसान है वो आप यहाँ देख सकते है.
  6. क़ुएस्तिओन्स एंड अंसवेरस से यूजर को ेंगगड़ रखें: जो भी आप लिख रहे है उसमे क्वेश्चन का भी उसे करे जिससे यूजर धियान आर्टिकल पर बना रहे.
  7. ग्रामर मिस्टेक न करे: जो भी आप लिख रहे है उसमे कोई ग्रामर मिस्टेक भी नहीं होनी चाहिए.. वो चेक करने के लिए फ्री टूल भी उपलब्ध है जैसे ग्राममार्लय और जिंजर जिनको आप ब्राउज़र में ऐड करके आसानी से अपनी ग्रामर मिस्टेक को सही कर सकते है.
  8. प्रूफ़रीद जरूर करे: कंटेंट राइटिंग का सबसे मैं और जरुरी काम होता है की हमने जो भी लिखा है वो हम चेक करे की कही कोई गलती हो नहीं है.. इस प्रोसेस को ही प्रूफ रीडिंग कहा जाता है.. प्रूफरीडिंग कैसे करे और क्या फायदे है प्रूफरीडिंग करने के वो यहाँ डिटेल में बताये हुए है.

तो उम्मीद है अब आप समाज गए होंगे कंटेंट राइटिंग क्या है और कैसे हम बढ़िया से कंटेंट राइटिंग कर सकते है..आपको ये जानकारी किसी लगी कमेंट में जरूर बताये और अगर आपका कोई सवाल हो तो वो भी आप कमेंट करके पूछ सकते है.

One thought on “कंटेंट राइटिंग क्या है और एक राइटर कैसे बने?

Leave a Reply

Your email address will not be published.